/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\!! श्री गणेशाय नमः !!/\/\/\/\/\!! ૐ श्री श्याम देवाय नमः !!\/\/\/\/\!! श्री हनुमते नमः !!/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\

Friday, 24 December 2010

!! दरबार तेरा ओ श्याम, खुशियों का खजाना है... !!




वास्तव में खाटू वाले श्री श्याम प्रभु का दरबार खुशियों का खजाना ही है, जहाँ समस्त श्याम प्रेमियों को आत्मिक शुकुन की प्राप्ति होती है... इसलिए तो बाबा श्याम धणी के भक्त इस प्रकार अपनी भावनाऑ की अभिव्यक्ति करते है...




दरबार तेरा ओ श्याम, खुशियों का खजाना है...
मिलता जो शकुन यहाँ, कहीं और न जाना है...
दरबार तेरा ओ श्याम, खुशियों का खजाना है...
मिलता जो शकुन यहाँ, कहीं और न जाना है...



आया जो पहली बार, दर पर तेरे ओ श्याम...
जग में चर्चा तेरी, सुन कर तेरा मैं नाम...
देखा जबसे तुझे श्याम, दिल तेरा दीवाना है...
मिलता जो शकुन यहाँ, कहीं और न जाना है...



मस्ती जो बरस रही, मस्ती में मैं खोया...
नाच उठा मेरा मन, जागा जो था सोया...
भक्ति का दीप यह श्याम, घर-घर में जगाना है...
मिलता जो शकुन यहाँ, कहीं और न जाना है...



जहाँ दीप जगे आना, जगे ज्योति तुम्हारी श्याम...
गुणगान करूँ तेरा, रस पान करूँ मैं श्याम...
रस भक्ति का तुझे श्याम, हाथों से पिलाना है...
मिलता जो शकुन यहाँ, कहीं और न जाना है...



एक बार नहीं कई बार,पीया न प्यास बुझे...
बढ़ती ही यह जाये,जब-जब मैं देखुं तुझे...
'टीकम' दे दर्शन श्याम,निश दिन दर आना है...
मिलता जो शकुन यहाँ,कहीं और न जाना है...



दरबार तेरा ओ श्याम,खुशियों का खजाना है
मिलता जो शकुन यहाँ,कहीं और न जाना है..
दरबार तेरा ओ श्याम, खुशियों का खजाना है...
मिलता जो शकुन यहाँ, कहीं और न जाना है...



!! जय जय मोरवीनंदन, जय जय बाबा श्याम !!
!! काम अधुरो पुरो करज्यो, सब भक्तां को श्याम !!
!! जय जय शीश के दानी, जय जय खाटू धाम !!
!! म्हे आया शरण तिहारी, शरण म अपणे लेलो श्याम !!


भजन : "श्री महाबीर जी"

No comments:

Post a Comment

थे भी एक बार श्याम बाबा जी रो जयकारो प्रेम सुं लगाओ...

!! श्यामधणी सरकार की जय !!
!! शीश के दानी की जय !!
!! खाटू नरेश की जय !!
!! लखदातार की जय !!
!! हारे के सहारे की जय !!
!! लीले के असवार की जय !!
!! श्री मोरवीनंदन श्यामजी की जय !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में