/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\!! श्री गणेशाय नमः !!/\/\/\/\/\!! ૐ श्री श्याम देवाय नमः !!\/\/\/\/\!! श्री हनुमते नमः !!/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\

Saturday, 22 January 2011

!! कईयाँ बैठी बावली सी, श्याम धणी घरां आशी... !!



आइये आज हम सभी अपने इष्टदेव, कुलदेव श्री श्यामधणी खाटूवाले की अगवानी इन सुमधुर भावों से करे...


कईयाँ बैठी बावली सी, श्याम धणी घरां आशी...
श्याम धणी घरां आशी, श्याम धणी घरां आशी...
कईयाँ बैठी बावली सी, श्याम धणी घरां आशी...
 


चिठ्ठी एक भेजी थी, म्हें श्याम ने बुलाने की...
चिठ्ठी पाछी आई, श्री श्याम क आने की...
लीला चढ़ कर आशी, लीला चढ़ कर आशी...
कईयाँ बैठी बावली सी,श्याम धणी घरां आसी..
 


श्याम धणी घरां आवागो, आता ही नहावगो...
चन्दन को लेप लगावागो,केशर तिलक करावगो...
घुंघराला लहराशी, घुंघराला लहराशी...
कईयाँ बैठी बावली सी, श्याम धणी घरां आशी..
 


केसरियो बागो पहनगो, माथै मुकुट सजावगो...
कुंडल कानां म पहनगो, मोती की माला पहनगो...
बनडो सो सज जाशी, बनडो सो सज जाशी...
कईयाँ बैठी बावली सी,श्याम धणी घरां आशी...
 


गजरो फुलां को बनवाले, श्री श्याम न पहनावगां...
झूलो फुलां को बनवाले, श्री श्याम न झुलावगां...
इत्तर खूब लगाशी, इत्तर खूब लगाशी...
कईयाँ बैठी बावली सी,श्याम धणी घरां आसी..
 


हो जा तूं तैयार, श्री श्याम की अगवानी म...
छप्पन भोग बनवाले, घालैगां मिजवानी म...
दो मीठा पान खाशी, दो मीठा पान खाशी...
कईयाँ बैठी बावली सी,श्याम धणी घरां आशी...
 


लीला की खातीर, चणा. की दाल भिजाजे... 
घुंघरू की जोड़ी बाँध, लीला न नचाजे...
"टीकम" भजनां सूं रिझाशी, भजनां सूं रिझाशी...
कईयाँ बैठी बावली सी, श्याम धणी घरां आशी...




कईयाँ बैठी बावली सी, श्याम धणी घरां आशी...
श्याम धणी घरां आशी, श्याम धणी घरां आशी...
कईयाँ बैठी बावली सी, श्याम धणी घरां आशी...



!! जय जय मोरवीनंदन, जय जय बाबा श्याम !!
!! काम अधुरो पुरो करज्यो, सब भक्तां को श्याम !!
!! जय जय लखदातारी, जय जय श्याम बिहारी !!
!! जय कलयुग भवभय हारी, जय भक्तन हितकारी !!
भजन : "श्री महबीर जी"

श्री श्याम बाबा की यह अनुपम झांकी की छवि  कटिहार, बिहार में आयोजित  "श्री श्याम महोत्सव" की है...

No comments:

Post a Comment

थे भी एक बार श्याम बाबा जी रो जयकारो प्रेम सुं लगाओ...

!! श्यामधणी सरकार की जय !!
!! शीश के दानी की जय !!
!! खाटू नरेश की जय !!
!! लखदातार की जय !!
!! हारे के सहारे की जय !!
!! लीले के असवार की जय !!
!! श्री मोरवीनंदन श्यामजी की जय !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में