/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\!! श्री गणेशाय नमः !!/\/\/\/\/\!! ૐ श्री श्याम देवाय नमः !!\/\/\/\/\!! श्री हनुमते नमः !!/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\/\

Monday, 21 February 2011

!! बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह... !!




म्हारा सुन्दर सलोना साँवरिया श्यामबिहारी जी री शोभा ही जग सु न्यारी ह... श्री मंदिर में बैठ्या म्हारा साँवरिया सरकार अपने निज भगतां क ऊपर प्रीत रा तीर चला चला कर निज प्रेम म घायल कर देवे ह और फिर सारा भगतां हिल मिल अपने साँवरिया बाबा श्यामधणी स यु कहवे है...



बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...
ओ हो, बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...
तीर चलावे ह, बाबो तीर चलावे ह,  बैठ्यो सांवरियों...



सीधो साधो, भोलो लागे, पहल्याँ श्याम हमारो जी...
मीठी सी मुस्कान दिखा यो, जी उलझावे ह,  बैठ्यो सांवरियों...
बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...



नित नया रूप दिखावे बाबो, पक्को जादुगारो जी...
मन को मौजी सांवरियों म्हाने, घणों छ्कावे ह,  बैठ्यो सांवरियों... 
बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...



जंच जासी तो बात करे यो, वरना रुख नही जोड़े जी...
छोटी- छोटी बातां पर भी, यो इतरावे ह, बैठ्यो सांवरियों... 
बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...



प्रेम जगाकर यु छिटकाणो, श्याम समझ नही आवे जी...
'नंदू'  हेत श्याम जद जाग्यो, क्यूँ तरसावे ह, बैठ्यो सांवरियों... 
बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...



बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...
ओ हो, बैठ्यो सांवरियों मंदिर म प्रीत का तीर चलावे ह, बैठ्यो सांवरियों...
तीर चलावे ह, बाबो तीर चलावे ह,  बैठ्यो सांवरियों...



!! जय जय मोरवीनंदन, जय जय बाबा श्याम !!
!! काम अधुरो पुरो करज्यो, सब भक्तां को श्याम !!
!! जय जय लखदातारी, जय जय श्याम बिहारी !!
!! जय कलयुग भवभय हारी, जय भक्तन हितकारी !!



भजन : "श्री नंदू जी"


श्री श्यामबाबा के श्री चरणों में समर्पित यह अनुपम भाव राजस्थानी लोक गीत "धमाल" के तर्ज़ पर आधारित है...


श्री श्याम बाबा के यह अनुपम दर्शन ओडिशा प्रांत के भटली धाम के है, जहाँ बाबा श्यामधणी अपने आलौकिक बालरूप में विराजित हो अपने भगतों को दर्शन देते है....


बाबा श्याम के भटली धाम के श्री मंदिर के बारे में जानने के लिये आप सभी नीचे दिये गयी लिंक पर क्लिक कर सकते है...
 


!! जय श्री श्याम  !!

No comments:

Post a Comment

थे भी एक बार श्याम बाबा जी रो जयकारो प्रेम सुं लगाओ...

!! श्यामधणी सरकार की जय !!
!! शीश के दानी की जय !!
!! खाटू नरेश की जय !!
!! लखदातार की जय !!
!! हारे के सहारे की जय !!
!! लीले के असवार की जय !!
!! श्री मोरवीनंदन श्यामजी की जय !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में